Sanjay dutt -His life is a Fight Part 1

    Sanjay Dutt -His life is a Fight Part 1

Sanjay Dutt -His life is a Fight part 1
   

 Sanjay Dutt -His life is a Fight part 1

There is an old saying that if luck falls behind someone, then the person remains behind him no matter how successful he may become, but luck does not come from running his best. The great saint Mahatma Fell has often been in trouble, We are going to talk about one such person, behind whom his fate has been lying for more than 40 years and he is not even giving him a chance to take a breath and yes, we are going to talk about Sanju Baba's Sanjay Dutt Who is the son of famous actor Sunil Dutt Ji and his mother has also been a great actress Nargis.
Sanjay Dutt has been very close to his mother from the beginning and when he died in 1981 due to his mother's cancer, he told him about the pain he had at that time in 2018.
"When my mother died, I didn’t cry, I had no emotions. It was after two years, I was sitting in a group and a guy started playing this tape. And, I heard my mother’s voice advising me and telling me things and how much she loved me and how much she cared about me and how much she expected from me"


एक पुरानी कहावत है कि अगर किस्मत किसी के पीछे पड़ जाए तो उसके पीछे पड़ी रहती है वो आदमी कितना भी कामयाब हो जाए कितना भी अच्छा हो जाए लेकिन किस्मत अपना दांव चलाने से नहीं बाज आती किस्मत के आगे बड़े बड़े राजा और बड़े-बड़े संत महात्मा  अक्सर मुश्किलों में रहे हैं,ऐसे ही एक शख्स की बात हम करने जा रहे हैं जिसके पीछे उसकी किस्मत 40 साल से भी ज्यादा सालों से पड़ी हुई है और उसको सांस लेकर खुश रहने का मौका तक नहीं दे रही जी हां हम बात करने जा रहे हैं संजू बाबा की संजय दत्त जो की मशहूर अदाकार सुनील दत्त जी के बेटे हैं और उनकी माता भी एक बेहतरीन एक्ट्रेस रही है नरगिस
 संजय दत्त शुरू से ही अपनी मां की बहुत करीबी रहे और जब उनकी माता की कैंसर की वजह से डेथ हुई 1981 में तो उस समय का जो दर्द था उसका बयान उन्हें 2018 में किया उन्होंने कहा
"जब मेरी माँ की मृत्यु हुई, तो मैं रोया नहीं, मेरी कोई भावना नहीं थी। यह दो साल बाद था, मैं एक समूह में बैठा था और एक आदमी ने एक टेप चलाना शुरू किया। और, मैंने अपनी माँ की आवाज़ सुनकर मुझे सलाह दी और मुझे बताया कि वह मुझसे कितना प्यार करती है और वह मुझसे कितना प्यार करती है और मुझसे कितनी उम्मीद रखती है"